Tuesday, 17 February 2009

हम तो दरिया है

हम से ना रूठो नहीं तुमको हम मनाएंगे
आप के दुश्मनों से दोस्ती निभाएंगे
हम तो दरिया है कोई राह बना ही लेंगे
आप पत्थर हो बता दीजिये कहाँ जायेंगे


सईद पठान (ह्यूस्टन)

No comments:

Post a Comment