Monday, 4 May 2009

समजो तो

कभी कभी हम यूँ ही दिल बहेलाते है

जो बात नही समजे औरों को समजाते है

निदा फाज़ली

No comments:

Post a Comment