Thursday, 1 October 2009

तस्बीह हुस्न की

तस्बीह तेरे हुस्न की पुरी न हो सकी
जन्नत तेरे बदन की अधूरी मिसाल थी

मिदहतुल अख्तर