Sunday, 13 December 2009

होंसले - सईद पठान

तू  सभी  तरह  से  जालिम  मेरा  सब्र  आजमाले
तेरे  हर  सितम  से  मुझको  नए  होंसले  मिले  है

सौजन्य - सईद पठान

No comments:

Post a Comment