Sunday, 26 April 2009

ख्वाब - सईद पठान

रात भर आप ही नज़र आये

आँख खुलते ही ख्वाब कहलाये

सईद पठान

No comments:

Post a Comment