Sunday, 8 March 2009

आस्मां से दिल लगा बैठे

हुई हमसे यह नादानी तेरी महफ़िल आ बैठे
ज़मीं की ख़ाक होकर आसमाँ से दिल लगा बैठे

-ग़ालिब

No comments:

Post a Comment