Saturday, 7 March 2009

आरजुओं

आरज़ुओं का सिलसिला कब ख़त्म होगा ऐ शकील
खिल गये गुल तो कलियाँ और पैदा हो गयीं

-शकील बदायुनी

No comments:

Post a Comment