Friday, 6 March 2009

ग़लत कदम

बस एक कदम उठा था ग़लत राह- ए- शौक़ में

मंजिल तमाम उम्र मुझे ढूँढती रही

सईद पठान (ह्यूस्टन)

No comments:

Post a Comment