Saturday, 7 March 2009

तरदामनी

तरदामनी पे शेख़ हमारी न जाइयो
दामन निचोड़ दें तो फ़रिश्ते वज़ू करें

-मीर "दर्द"

No comments:

Post a Comment