Saturday, 28 March 2009

अंगड़ाई

कैफ़-ए-मस्ती में भी रहता है जोबन का लिहाज़
उनको अंगड़ाई भी आती है तो शरमाई हुई

-अमीर मीनाई


No comments:

Post a Comment