Sunday, 8 March 2009

हसरत पै उस मुसाफ़िरे बेकसके रोईये

जो थकके बैठ जाता हो मंज़िल के सामने-

मुसहफ़ी

No comments:

Post a Comment