Friday, 13 March 2009

तूफ़ान ने , नाखुदा ने , समुन्दर ने , मौज ने
जिस जिस का बस चला है सफी ने डुबोये है
-----------------------------------------
इक पल को रुकने से दूर हो गई मंजिल
सिर्फ़ हम नहीं , रास्ते भी चलते ही
-----------------------------------------
दुआ बहार की मांगी तो इतने फूल खिले

कहीं जगह न मिली मेरे आशियाने को
-------------------------------------

बचपन में जब मिले तो कहा मिलना शबाब में
आया है जब शबाब तो पाया नकाब में


No comments:

Post a Comment