Sunday, 8 March 2009

ख़राबी

वह ख़राबी की है इस भटके हुए इन्सानने
अपनी आँखें बन्द कर लीं शर्मसे शैतानने-
रमज़ी इटावी

No comments:

Post a Comment