Friday, 6 March 2009

जान आफत में है दरिया की

पटकती है किनारे से सर अपना आज तक मौजे
मेरी कश्ती डुबो के जान आफत में है दरिया की
सईद पठान (ह्यूस्टन, यु एस ऐ )

No comments:

Post a Comment