Sunday, 1 March 2009

नाकामी से मत डर

ताबे नाकामी नहीं तो आरज़ू करता है क्या
आरज़ू है मौज का साहिल से टकराने का नाम

आनन्द नारायण मुल्ला

No comments:

Post a Comment