Tuesday, 17 February 2009


खिर्द के पास ख़बर के सिवा कुछ और नहीं
तेरा इलाज नज़र के सिवा कुछ और नहीं
... इकबाल

खिर्द = दिमाग


No comments:

Post a Comment