Sunday, 22 February 2009

फकीरां आयें सदा कर चले

मियाँ खुश रहो दुआ कर चले

...

कहे क्या जो पूछे कोई हम से 'मीर'

जहाँ में तुम आये थे, क्या कर चले

No comments:

Post a Comment