Friday, 30 January 2009

फ़ासले

कोई हाथ भी न मिलायेगा जो गले मिलोगे तपाक से
यह नये मिज़ाज का शहर है ज़रा फ़ासले से मिला करो
-बशीर बद्र

No comments:

Post a Comment