Saturday, 24 January 2009

नया जहाँ

परवाज़ है दोनो की इसी एक फिझा में
कर्घज़ का जहाँ और है शाहीन का जहाँ और
....इक़बाल

No comments:

Post a Comment